Wednesday, May 3, 2017

संवेदनशील

मैं,
निराश भी होता हूँ, उदास भी होता हूँ,
कुंठित भी होता हूँ, चिंतित भी होता हूँ,

आहत भी होता हूँ, उल्लसित भी होता हूँ,
आकर्षित भी होता हूँ, उत्साहित भी होता हूँ।

मैं
उम्मीदें रखता भी हूँ
और उन्हें टालने की कोशिश भी करता हूँ।

मैं,
संवेदनशील हूँ।

मैं,
अपनी भावनाओं को
कभी ज़ाहिर भी करता हूँ
कभी ख़ुद में भी रखता हूँ।

1 comment:

आपकी टिप्पणी के लिए धन्यवाद!!!!